करवाचौथ का त्योहार हो और बात मेहंदी की ना हो ये कैसे हो सकता है, क्योंकि मेहंदी ही तो है जो पति के प्यार की रंगत को और बढ़ा देती है। तभी तो करवाचौथ से पहले ही राजधानी के बाजारों में मेहंदी लगाने वालों व ब्यूटी पार्लर वालों ने मेहंदी लगाने के दामों को बढ़ा दिया है।

दिल्ली के कई बाजार हैं मेहंदी के लिए मशहूर
बता दें कि मेहंदी लगाने के लिए महिलाओं की कुछ पसंदीदा जगह व बाजार हैं जोकि दिल्ली में काफी मशहूर हैं। जिनमें कनॉट प्लेस का हनुमान मंदिर, तिलक नगर, सरोजिनी नगर, दिल्ली हाट, लाजपत नगर, राजौरी गार्डन सहित ज्वालाहेड़ी मार्किट काफी फेमस हैं। जोकि राजस्थानी जयपुर, बीकानेर, मारवाड़ी मेहंदी से लेकर अरेबियन मेहंदी तक लगाते हैं। इस बार करवाचौथ में अमूमन हर साल के मुकाबले इन्होंने भी अपने दाम बढ़ा दिए हैं। जहां हथेली तक मेहंदी लगाने के पहले 50 से 70 रुपए देने पड़ते थे, वहीं अब 150 रुपए मेहंदी वाले मांग रहे हैं जबकि आधे हाथ की मेहंदी जिसके 250 रुपए लगते हैं उसके 350 से 500 रुपए तक वसूल किए जा रहे हैं। वहीं पूरे हाथ की मेहंदी लगाने के लिए 500 से लेकर 2 हज़ार तक मेहंदी वाले डिमांड कर रहे हैं। उसमें भी छननी में चाँद देखती हुई औरत व दूल्हा-दुल्हन मेहंदी व गिफ्ट्स लाते पति की मेहंदी सबसे ज्यादा महँगी है।

करवाचौथ से मेहंदीवालों को कमाई की आशा
हनुमान मंदिर पर मेहंदी लगाने वाले लालचंद ने बताया कि उन्हें करवाचौथ पर अच्छी कमाई की आशा है। कोरोना ने घर का बजट बिगाड़ दिया है इससे कुछ जीवन की गाड़ी पटरी पर आ जायेगी। वैसे भी मेहंदीवालों को सालभर फेस्टिव सीजन का इंतजार रहता है क्योंकि उन दिनों में कमाई अच्छी हो जाती है।