लखनऊ । भारतीय महिला एकदिवसीय टीम की कप्तान मिताली राज ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चौथे मैच को सात विकेट से गंवाने के बाद कहा कि उनकी गेंदबाजों को पांच मैचों की इस श्रृंखला से पहले अभ्यास का सही समय नहीं मिला। भारत के 267 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए दक्षिण अफ्रीका की महिला टीम ने आठ गेंद शेष रहते तीन विकेट पर 269 रन बनाकर आसान जीत दर्ज करने के साथ 3-1 की अजेय बढ़त हासिल कर ली।
मिताली राज ने कहा कि अगर हमने 266 रन से अधिक बनाया होता तो भी दक्षिण अफ्रीका ने जिस तरह बल्लेबाजी की उसके लिए यह ज्यादा नहीं होता। हमारी गेंदबाजी विभाग को श्रृंखला से पहले अपनी तैयारी पर गौर करना होगा। हम इस मामले में पिछड़ गए हैं। मिताली ने कहा कि हम क्षेत्ररक्षण के मामले में बुरे नहीं हैं लेकिन कुछ चीजों में सुधार किए जाने की जरूरत है। 
अनुभवी तेज गेंदबाज झूलन गोस्वामी चोट के कारण यह मैच नहीं खेल पाई। उनकी गैरमौजूदगी में भारतीय टीम को संघर्ष करना पड़ा। मिताली ने कहा कि हमें झूलन के अनुभव की कमी बेहद खली लेकिन यह दूसरे गेंदबाजों के लिए जिम्मेदारी उठाने का एक मौका था। हमारी स्पिनर अनुभवी हैं। मुझे उनसे बेहतर वापसी की उम्मीद है। 
दूसरी ओर, दक्षिण अफ्रीका की कप्तान लॉरा वोलवार्ट (53) ने लिजेल ली (69) के साथ पहले विकेट के लिए 116 रन की साझेदारी कर जीत की नींव रखी। उन्होंने कहा कि यह जीत सभी खिलाड़ियों के योगदान का नतीजा है। मैंने हाल ही में टीम का नेतृत्व करना शुरू किया है। मैं सलाह तथा मदद के लिए अनुभवी खिलाड़ियों के पास जाती हूं। हमारी योजना शुरु से ही आक्रामक क्रिकेट खेलने की थी। हमारा गेंदबाजी अटैक बेहतरीन है। हमारे लिए शीर्ष चार में से किसी एक बल्लेबाज को लंबी पारी खेलने जरूरत थी। हम पहले ऐसा करने में नाकाम रहते थे। 
मैन ऑफ द मैच मिगनोन डु प्रीज (55 गेंद में 61 रन) ने कहा कि वह इस खिताब को लारा गुडॉल (नाबाद 59) के साथ साझा करना चाहेंगी। डु प्रीज और गुडॉल ने तीसरे विकेट के लिए 103 रन की साझेदारी की। उन्होंने कहा कि मैं इस पुरस्कार को लारा के साथ साझा करूंगी। वह भी इसकी हकदार है। इस मुश्किल परिस्थिति में भारत में श्रृंखला जीतना बेहद खास है। हम इसे संजो कर रखना चाहते हैं।