जीवन को खुशहाल बनाने के लिए वास्तु शास्त्र का बड़ा योगदान बताया जाता है. घर खरीदते समय केवल अंदर ही नहीं बल्की कई ऐसी चीजों पर भी ध्यान देने की आवश्यकता होती है, जो आपको ऊर्जावान बनाती है।

वास्तु के अनुसार सकारात्मक ऊर्जा को बनाए रखने के लिए पेड़-पौधे का अहम योगदान रहा है. घर के अंदर तुलसी का पौधा लगाने की सलाह दी जाती है. क्योंकि तुलसी का पौधा घर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह करता है. इस प्रकार घर के बाहर ऐसे पौधे होने नहीं होने चाहिए, जिन्हें शुभ नहीं माना जाता. वहीं नीम, मनी प्लांट आदि भी शुभ माने जाते हैं. वहीं कुछ निगेटिव एनर्जी वाले पौधों को न घर के अंदर जगह देनी चाहिए, न ही घर के बाहर.आइए जानते हैं घर के बाहर किस तरह के पेड़ों को लगाने से मनाही होती है.

इमली का पेड़ (Tamarind Plant)

वास्तु की दृष्टि के अनुसार इमली का पेड़ घर के आसपास लगाना ठीक नहीं है। सेहत के लिहाज से इमली का पेड़ बेहद लाभकारी होता है, मगर घर के बाहर इसे लगाना ठीक नहीं है. घर के आसपास इमली का पौधा लगाने से निगेटिव एनर्जी पैदा होती है. अगर कहीं घर के आसपास इमली का पेड़ होता है तो घर के सदस्यों को कई तरह की बीमारियों का सामना करना पड़ता है. वहीं, घर में लोगों के बीच मनमुटाव भी रहता है.

पीपल (Peepal)

पीपल के पेड़ को धार्मिक दृष्टि से शुभ समझा जाता है इसकी पूजा होती है. लेकिन वास्तु के अनुसार घर में पीपल का पेड़ लगाना शुभ समझा जाता है. वहीं, घर के आसपास भी पीपल का पेड़ न हो इस बात का ध्यान रखा जाता है. इससे आर्थिक नुकसान होगा.

नागफनी (Cactus Plant)

वास्तु के अनुसार घर के आंगन में किसी तरह का कांटेदार पौधा लगाना सही नहीं है. इससे घर में नकारात्मक ऊर्जा उत्पन्न होती है. नागफनी भी कांटेदार पौधे में गिना जाता है. नागफनी या उसके जैसे कांटे वाले पौधे घर या आसपास नहीं लगाना चाहिए. इससे पैदा होने वाली नाकारात्मक ऊर्जा घर के सदस्यों के बीच तनाव पैदा करती है.

खजूर का पौधा (Date palm Plant)

खजूर का पेड़ भी घर पर लगाना शुभ नहीं होता है. यह कांटेदार पेड़ों में माना जाता है. ऐसे में वास्तुकारों का कहना है कि इसे घर के आसपास नहीं लगाना चाहिए. कांटेदार खजूर का पेड़ घर-परिवार के सदस्यों की तक्की में बाधा उत्पन्न करता है.

मदार का पौधा (Giant calotrope)

मदार का पौधा भी वास्तु के अनुसार घर के आसपास लगाना अशुभ नहीं होता है. दरअसल, इसके पौधे से दूध निकलता है, जो नाकारात्मक ऊर्जा का कारण होता है. मदार से पैदा निगेटिव एनर्जी घर-परिवार की उन्नति में रुकावट उत्पन्न करते हैं।.